मध्यप्रदेश में निवेश के लिए एक नया वातावरण और नयी कार्य-संस्कृति बनायेंगे


मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने कहा है कि हम मध्यप्रदेश में निवेश के लिए एक नया वातावरण और नयी कार्य-संस्कृति बनायेंगे, जो निवेशकों के विश्वास को न केवल लौटाएंगी बल्कि उसे मजबूत भी बनाएगी। उन्होंने कहा कि हम उद्योगों के लिए समग्र नीति बनाने के साथ ही सेक्टर वाइज़ नीति भी बनाएंगे। प्रदेश में ऐसे उद्योगों को प्रोत्साहित करेंगे, जो अधिक से अधिक रोज़गार उपलब्ध कराएंगे। हमारी नीति होगी कि जो निवेश जितने अधिक रोज़गार देगा, उसे उतनी ही अधिक सुविधाएँ मिलेंगी। मुख्यमंत्री ने कांफ्रेंस में आए सभी उद्योगपतियों से आग्रह किया कि प्रदेश में बेहतर औद्योगिक वातावरण के लिए क्या हो सकता है, क्या करना चाहिए, क्या नहीं होना चाहिए। इस पर अपने सुझाव दें। निवेश बढ़ाएँ। इसमें जो भी सुविधाएँ और संसाधान चाहिए, वह सरकार उपलब्ध करवाएगी श्री नाथ ने कहा कि हमारी नीति होगी कि हम मध्यप्रदेश में आर्थिक गतिविधियों का विस्तार करें। इससे जहाँ एक ओर प्रदेश का विकास होगा, वहीं दूसरी ओर लोगों की क्रय शक्ति भी बढ़ेगी और युवाओं को रोज़गार मिलेगा। प्रदेश में निवेश के लिए तंत्र की कार्य-शैली और सोच में परिवर्तन लाएंगे। एक नये दृष्टिकोण के साथ इस दिशा में राज्य शासन काम कर रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि ये बैठक निवेश के लिए नहीं बल्कि हम इस बैठक के जरिए उन उद्योगों की समस्याओं और जरूरतों को जानना चाहते हैं जो पूर्व से ही हमारे प्रदेश में उद्योग चला रहे हैं। सबसे पहले हमारा लक्ष्य स्थापित उद्योगों के सामने उपस्थित समस्याओं और आवश्यकताओं को पूरा करना है ताकि उससे यह संदेश जाए कि मध्यप्रदेश में सरकार निवेशकों के सहयोग के लिए तत्पर है। श्री नाथ ने कहा कि प्रदेश में फूड प्रोसेसिंग, टूरिज्म, टेक्सटाईल और आई.टी. के साथ-साथ धार्मिक पर्यटन को भी बढ़ावा देंगे। इन क्षेत्रों में अधिक से अधिक निवेश हो, इसका प्रयास करेंगे। श्री नाथ ने कहा कि ये वो क्षेत्र है, जिनसे हम प्रदेश के अधिक से अधिक युवाओं को रोज़गार दे सकेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

About admin