नातरा कुप्रथा के विरुद्ध हो व्यापक प्रचार-प्रसार


भोपाल: नातरा-झगड़ा प्रथा के उन्मूलन के लिये जन-जागरूकता जरूरी है। कुप्रथा के उन्मूलन के लिये कानून में संशोधन भी किया जा सकता है। जहाँ नारी की पूजा होती है, वहाँ देवता वास करते हैं। राजगढ़ में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस एवं नातरा-झगड़ा उन्मूलन पर आयोजित कार्यक्रम में पूर्व मुख्यमंत्री एवं राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह एवं मंत्रियों ने ये विचार व्यक्त किये।राजगढ़ जिला प्रभारी नगरीय विकास एवं आवास मंत्री जयवर्द्धन सिंह ने कहा कि हमारे देश में आदिकाल से ही महिलाओं को सम्मान और बराबरी का दर्जा मिला है। उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गाँधी ने पूरे विश्व में भारत का नाम रौशन किया है। सिंह ने कहा कि सरकार महिलाओं के हित संरक्षण के लिये प्रभावी योजनाएँ चला रही है।जनसम्पर्क मंत्री पी.सी. शर्मा ने कहा कि महिलाओं की तरक्की के लिये सरकार प्रतिबद्ध है। महिला सशक्तिकरण पर बनी ‘थप्पड़’ फिल्म को मध्यप्रदेश में टैक्स-फ्री किया गया है। उन्होंने कहा कि नातरा-झगड़ा कुप्रथा के विरुद्ध व्यापक प्रचार-प्रसार होना चाहिये। ऊर्जा मंत्री श्री प्रियव्रत सिंह ने कहा कि राजगढ़ जिले के माथे पर लगे नातरा-झगड़ा कुप्रथा के कलंक को हटाने के लिये सामूहिक प्रयासों की जरूरत है।पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कहा कि जरूरत पड़ी तो नातरा-झगड़ा कुप्रथा के उन्मूलन के लिये नया कानून बनाया जायेगा। उन्होंने कहा कि नारी का अपमान विनाश का कारण बनता है। दिग्विजय सिंह ने कहा कि मोहनपुर-कुण्डालिया के बीच औद्योगिक कॉरीडोर बनने से जिले के विकास को वांछित गति मिलेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

About admin