किसानों की कठिनाइयां दूर करने के लिए संगठित प्रयासों की जरूरत: उपराष्ट्रपति

उपराष्ट्रपतिश्री एम.वैंकेया नायडु ने कहा है कि देश के सभी किसानों की ठिनाइयां मिटाना सुनिश्चित करने के लिए प्रत्येक हितधारक द्वारा संगठित प्रयास करने की जरूरत है। विजयवाड़ा में स्वर्ण भारत ट्रस्ट में आयोजित किसानों और वैज्ञानिकों के एक सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। इस सम्मेलन का आयोजन आचार्य एन.जी.रंगा कृषि विश्वविद्यालय के सहयोग से स्वर्ण भारत ट्रस्ट द्वारा किया गया।उपराष्ट्रपति ने कहा कि कृषि को लचीला, टिकाऊ और लाभदायक बनाने के जरिए किसानों की आमदनी को दोगुना किया जाना देश की सबसे प्रमुख जरूरत है। उन्होंने कहा, “हमें इस पहलू को सर्वोच्च प्राथमिकता देने के लिए केंद्र और राज्यों में ढांचागत बदलाव लाने की जरूरत है।”किसानों को सशक्त बनाने में अवसंरचना द्वारा प्रमुख भूमिका निभाने पर बल देते हुए उपराष्ट्रपति ने कहा कि ग्रामीण सड़क संपर्क में सुधार, और ज्यादा गोदामों, कोल्ड स्टॉरेज की सुविधाओं की स्थापना, पानी और बिजली की आपूर्ति सुनिश्चित करना उन प्रमुख उपायों में शामिल हैं जिन्हें लागू करना होगा। उन्होंने कहा कि किसानों को समय पर ऋण उपलब्ध कराना भी उतना ही महत्वपूर्ण है।श्री नायडु ने कहा कि किसानों को विविध फसलों और सम्बद्ध कृषि गतिविधियों के बारे में भी शिक्षित किए जाने की जरूरत है। मैनेज द्वारा कराए गए एक अध्ययन से पता चला है कि जिन किसानों के परिवार खेतीबाड़ी के अलावा सम्बद्ध कृषि गतिविधियां करते हैं, वहां किसानों की आत्महत्या जैसी घटना नहीं होती।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

About admin