प्रधानमंत्री के नेतृत्व में समय रहते नियंत्रित किया कोरोना : मुख्यमंत्री चौहान


भोपाल: मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दूरदर्शन के माध्यम से प्रदेश की जनता को संबोधित करते हुए कहा कि देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पहले ही कोरोना संकट को पहचान लिया तथा देश में लॉकडाउन जैसी व्यवस्था प्रारंभ कर दी। यह उनकी दूरदर्शिता का परिणाम है कि समय रहते है हमने देश में कोरोना संक्रमण को नियंत्रित कर लिया है। जहाँ एक ओर विश्व के इटली, स्पेन, अमेरिका जैसे देश भयानक संकट से गुजर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर भारत की स्थिति बेहतर है। मोदी अद्भुत नेता हैं, उन्होंने कोरोना के खिलाफ जंग में सारे देश को एक सूत्र में बांध दिया । चौहान ने कहा कि लड़ाई कठिन है, पर हम पूरी ताकत से इससे लड़ेंगे और जीतेंगे।

सभी लोग जान हथेली पर रखकर कर रहे काम: मुख्यमंत्री ने कहा कि 23 मार्च की रात 9 बजे शपथ लेने के बाद मैंने सबसे पहला काम वल्लभ भवन पहुँच कर कोरोना के संबंध में बैठक लेने का किया। पूरा शासन, प्रशासन कोरोना के खिलाफ लड़ाई में जुट गया। हमारे डॉक्टर्स, नर्स, पैरामैडिकल स्टाफ, पुलिस, विभिन्न विभागों के अधिकारी, कर्मचारी और पत्रकार जान हथेली पर रखकर लोगों की जिंदगी बचाने में लगे हैं। पूरे प्रदेश में जनता के सहयोग से प्रधानमंत्री के लॉकडाउन के आह्वान को पूरी तरह से सफल बनाया गया है।

हम अपने हौसले से कोरोना को हराएंगे:मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना के योद्धाओं के साथ दुर्व्यवहार और पथराव जैसी शर्मनाक घटना इंदौर में हुईं। हमने इसे अत्यंत गंभीरता से लेकर संबंधितों के विरूद्ध रासुका के अंतर्गत सख्त कार्यवाही की। हमारे अमले का हौसला कम नहीं हुआ तथा दूसरे दिन पुन: वहीं कार्य करने पहुँच गए। मेरे कुछ अधिकारी भी संक्रमित हो गए हैं, परंतु उनका कार्य करने का हौसला नहीं टूटा है। हम अपने हौसले से कोरोना को हराएंगे।

15 अप्रैल से फसल खरीदी व्यवस्था:मुख्यमंत्री ने किसानों से कहा कि उन्हें कृषि कार्यों के लिए हार्वेस्टर, कृषि उपकरण, आसानी से उपलब्ध हो जाएंगे, इन पर रोक नहीं लगायी गयी है। पंजाब सरकार से संपर्क करके कहा गया है कि वे प्रदेश में हार्वेस्टर आने दें। किसान अपनी फसल बिना किसी बाधा के काट सकेंगे, परन्तु उन्हें सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा। उनकी फसल की खरीदी की व्यवस्था भी आगामी 15 अप्रैल से की जा रही है। उनकी पूरी फसल खरीदी जाएगी।

अनहोनी पर कोरोना योद्धाओं को 50 लाख:मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार हमेशा अपने अधिकारियों-कर्मचारियों का पूरा ध्यान रखती है। कोरोना संकट के चलते हमारा राजस्व संग्रहण अत्यंत कम हुआ है तथा सारे संसाधन कोरोना के खिलाफ लड़ाई में लगे हुए हैं। फिर भी हम कर्मचारियों को बढ़ा हुआ डीए अवश्य देंगे। अभी इसे स्थगित किया गया है। मध्यप्रदेश सरकार समाज के किसी भी वर्ग को तकलीफ नहीं आने देगी। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने स्वास्थ्य कर्मियों के लिए 50 लाख तक का बीमा घोषित किया है। प्रदेश सरकार स्वास्थ्य विभाग के अलावा भी कोरोना संकट से लड़ने वाले सरकारी अमले को किसी अनहोनी होने पर 50 लाख की राशि का प्रावधान कर रही है।

घर पर रहकर मनाएं त्यौहार:प्रदेश में कोरोना संकट से निपटने के लिए सभी धर्मगुरुओं के साथ बैठक करके उनसे आग्रह किया गया है कि प्रदेश में आगामी त्यौहार घर पर ही रहकर मनाएं। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के लोग चाहे किसी भी समुदाय अथवा धर्म के हों, सभी कोरोना संकट में सहयोग कर रहे हैं तथा पिछले त्यौहार भी उन्होंने घर पर रहकर ही मनाए हैं। इस संकट में लोग मृत्युभोज, विवाह आदि आयोजन भी नहीं कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि मुरैना में संक्रमण फैलने का कारण दुबई से आए एक परिवार द्वारा वहाँ मृत्युभोज का आयोजन किया जाना था।

सारी दुनिया हमारा परिवार:मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी संस्कृति ‘वसुधैव कुटुम्बकम्’ की है। हम सभी को अपना भाई मानते हैं। दुनिया एक परिवार है। कोरोना की लड़ाई इंसान को बचाने के लिए की जा रही है। हम सब मिलकर दुनिया को इस संकट से बचाएंगे। उन्होंने बताया कि प्रदेश में तब्लीगी जमात के बहुत से व्यक्ति संक्रमित मिले तथा उन्होंने इसकी सूचना नहीं दी, जिसके कारण दूसरों में यह संक्रमण फैला। हम किसी भी व्यक्ति को स्वयं के साथ दूसरों की जिन्दगी खतरे में डालने की इजाजत नहीं देंगे।

प्रधानमंत्री के आह्वान को सफल बनाएं:मुख्यमंत्री ने कहा कि 5 अप्रैल को सारे प्रदेशवासी प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के रात्रि 9 बजे से 9 बजकर 9 मिनट तक अपने-अपने घरों की बालकनी और दरवाजों में दिए, मोमबत्ती अथवा मोबाइल फ्लैश लाइट जलाने के आह्वान को सफल बनाएं। इस समय घर की लाइट बंद करनी है, परन्तु अन्य यंत्र चल सकते हैं। हमें अंधकार से प्रकाश की ओर जाना है। कोरोना के अंधेरे से सबको मिलकर लड़ना है।

सभी प्रार्थना अवश्य करें:मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना संकट की इस घड़ी में हम सब प्रधानमंत्री के सुझावों पर पूरा अमल करें तथा उनके साथ खड़े होकर संकट का सामना करें। घर पर ही रहकर योग, व्यायाम, ध्यान करें, पढ़ें-लिखें, परिवार को समय दें। कोरोना की इस लड़ाई को पूरे हौसले के साथ लड़ें, पर साथ में प्रार्थना जरूर करें। सभी धर्म, पंथ के लोग ईश्वर से प्रार्थना करें कि हम इस महामारी से शीघ्र बाहर निकलें। मुख्यमंत्री ने कहा कि ‘कोरोना संकट समाप्त होने पर मैं स्वयं गिरिराज जी परिक्रमा देने जाऊंगा।’ मुख्यमंत्री ने कहा कि :

हम लड़ेंगे, जीतेंगे,

हार नहीं मानेंगे।

रैन अंधेरी बीतेगी,

पतवार चलाते जाएंगे,

मंजिल आएगी,

जरूर आएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

About admin