देश में त्रि-स्तरीय सहकारी व्यवस्था ही लागू रहेगी : मंत्री डॉ. गोविन्द सिंह


भोपाल: सहकारिता, संसदीय कार्य एवं सामान्य प्रशासन मंत्री डॉ. गोविन्द सिंह ने सहकारी भवन में 66वें सहकारिता सप्ताह के अन्तर्गत ‘ग्रामीण सहकारिता के माध्यम से नवाचार’ संगोष्ठी का शुभारंभ करते हुए कहा कि प्रदेश में त्रि-स्तरीय सहकारी व्यवस्था ही लागू रहेगी, जिससे ग्रामीणों को आवश्यक सुविधाएँ सहजता से उपलब्ध कराई जा सकें। डॉ. सिंह ने कहा कि देश के प्रथम प्रधानमंत्री पंड़ित जवाहरलाल नेहरू और राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के ग्रामीणों के आर्थिक उत्थान के स्वप्न को पूरा करने में पूर्व उप मुख्यमंत्री स्वर्गीय सुभाष यादव का योगदान सराहनीय रहा।मंत्री डॉ. सिंह ने जानकारी दी कि प्रदेश की निष्क्रिय सहकारी संस्थाओं को पुनर्जीवित करने का प्रयास किया जा रहा है। इससे युवाओं को बड़ी संख्या में रोजगार के अवसर मिलेंगे और उपभोक्ताओं को उचित मूल्य पर गुणवत्तायुक्त सामग्री उपलब्ध होगी। डॉ. सिंह ने कहा कि सहकारिता सप्ताह के अन्तर्गत आयोजित संगोष्ठियों के निष्कर्षों के आधार पर नीतियों का निर्धारण किया जाएगा।किसान कल्याण एवं कृषि विकास मंत्री सचिन यादव ने संगोष्ठी की अध्यक्षता करते हुए कहा कि लघु कृषकों की समृद्धि में सहकारिता की महत्वपूर्ण भूमिका है। इसके माध्यम से छोटी जोत के किसानों की उपज को नया बजार उपलब्ध कराया जा सकता है, किसानों को उपज का लाभकारी मूल्य दिलाया जा सकता है। यादव ने प्राथमिक सहकारी साख संस्थाओं को बहुउद्देशीय बनाने की आवश्यकता प्रतिपादित की।इस अवसर पर मंत्रीद्वय ने गांधी जी के 150वीं जयंती वर्ष के उपलक्ष्य में आयोजित प्रदर्शनी का उद्घाटन किया और ‘टूरफेड’ वेबसाइट का लोकार्पण किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

About admin